Back Cover
Look Inside

1857 की अनकही हैरत अंगेज़ दास्तानें (Hindi) 1857 ankahi hairat angez dastanein

Contents/ विषय-क्रम: भूमिका / 1857: स्वतंत्रता संग्राम के सच / अंग्रेज़ों ने दिल्ली कैसे जीती / 1857 के विद्रोह में महिलाओं की हिस्सेदारी / 1857 में हिंदू-मुसलमान-सिख एकजुटता / 1857 के ग़द्दार राजे-रजवाड़े जिन्होंने आज़ाद हिंदुस्तान में भी राज किया / 1857: अंग्रेज़ों द्वारा लूट के आंखों-देखे वृतान्त / दिल्ली की धन-दौलत / एक सैनिक कहावत / जीत के इनाम (लूट) की जगह / भत्ता / लूट जमा करने के लिए एजेंटों की नियुक्ति / शुरुआती लूट / अंतरात्मा की परीक्षा / लुभावना प्रदर्शन / सुनियोजित तलाशी / दौलत की एक खदान / लालच / एक शुभ विचार / छुपाने की पसंदीदा जगहें / मेरे साथ एक दुर्घटना / क़ीमती ख़ज़ाने की खोज / ख़ुशगवार यादें / लूट के सामान की बिक्री / लखनऊ की लूट / तस्वीरें

250.00

इस पुस्तक में 1857 के महान विद्रोह से सम्बन्धित जो सच्चाइयाँ प्रस्तुत की गयी हैं वे उर्दू, अंग्रेज़ी, हिंदी और फ़ारसी भाषाओं की उन समकालीन दस्तावेज़ों पर आधारित हैं, जिन्हें लेखक ने लगभग दस सालों में देश-विदेश से जमा किया था। इस पुस्तक के माध्यम से इस महान संघर्ष में हिस्सा लेने वाले विद्रोहियों के बारे में जो दुष्प्रचार किया जाता है, उसका जवाब देने की भी कोशिश की गई है। किस तरह पूरे हिन्दुस्तान में विद्रोह हुआ, कैसे विभिन्न धर्मों और जातियों के लोगों ने विद्रोह का झंडा बुलंद किया और अभूतपूर्व क़ुर्बानियाँ दीं, महिलाओं ने इस विद्रोह में कैसे बेमिसाल बहादुरी और सशक्त नेतृत्व का परिचय दिया, अंग्रेजों ने किन षड्यंत्रों और हथकंडों का इस्तेमाल करके दिल्ली जीती और हिंदुस्तान के जिन राजे-रजवाड़ों ने विद्रोह को कुचलने में अंग्रेज़ों की सहायता की थी, उन्होंने आज़ाद हिंदुस्तान पर भी राज किया, ये सब हैरतंअगेज़ सच्चाइयाँ समकालीन दस्तावेज़ों की रौशनी में, इस किताब में पेश की गई हैं। आशा है कि यह पुस्तक 1857 के स्वतंत्रता संग्राम को और बेहतर तरीक़े से समझने और उसकी सही विरासत को आत्मसात करने में मदद करेगी। इस पुस्तक में ऐसे ऐतिहासिक चित्र भी शामिल किए गए हैं जो उस समय के ब्रिटिश वृत्तांतों में छपे थे।

Weight 240 g
Dimensions 8.5 × 5.5 × 0.6 in
Binding

Paperback

Edition

Fourth

ISBN-10

8172211112

ISBN-13

9788172211110

Language

Hindi

Pages

200

Publish Year

2019 July

Author

Shamsul Islam

Publisher

Pharos Media & Publishing Pvt Ltd

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “1857 की अनकही हैरत अंगेज़ दास्तानें (Hindi) 1857 ankahi hairat angez dastanein”