Back to Our Publications

Book:

 रामजन्मभूमि बनाम बाबरी मस्जिद: मिथक एवं तथ्य
 

संकलक युगलकिशोर शरण शास्‍त्री
 

[Ram Janmabhoomi banaam Babri Masjid - Mithak ewam tathye]

Complier: Yugal Kishore Sharan Shastri
 

64 pages p/b
Price: Rs 40 / US $3  $5
ISBN-10: 81-7221-046-9
ISBN-13: 978-81-7221-046-5
Year: 2010 
Publishers: Pharos Media Publishing Pvt Ltd


 

अंग्रेज़ों ने फूट डालो और राज करो की रणनीति के तहत ऐसे विकृत इतिहास को परोसा, जिससे यहाँ के लोग मिल-जुल कर न रहने पायें। वे यहाँ से अपना आसन लेकर चले गये, परन्तु अपने गुर्गों को यहीं छोड़ गये। उनके गुर्गे आज भी अपने उस्ताद की नीतियों का अनुसरण करते हुए नया विकृत इतिहास रच रहे हैं, जिसका तथ्यों से कोई ताल्‍लुक़ नहीं है। यह विकृत एवं मनगढ़ंत इतिहास लोगों को भ्रम की स्थिति में छोड़ने में कामयाब रहा है। यह इतिहास यदि रचा नहीं गया होता तो शायद महात्मा गाँधी की हत्या नहीं होती, बाबरी मस्जिद नहीं तोड़ी जाती, गोधरा काण्ड के पश्‍चात गुजरात में मुस्लिम-संहार नहीं होता। इसके अलावा भी भारत में तमाम दंगे हुए जिसमें मानवता को भारी क्षति पहुँची है, उससे बचा जा सकता था। हिन्दू धर्म को ख़तरा हिन्दू, मुस्लिम, क्रिश्‍चियन, बौद्ध या अन्य किसी धर्म, मज़हब से नहीं है। इसे ख़तरा सिर्फ़ हिन्दू धर्म के साम्प्रदायिक गिरोहों से है। ये गिरोह धर्मान्ध हैं। धर्मान्धता अपने ही धर्म की अच्‍छाइयों को समझने नहीं देती।
जो आस्था दूसरे मज़हबों के प्रति नफ़रत पैदा करे, जिससे देश की एकता और अखण्डता को ख़तरा हो, जो इन्सानियत पर कुठाराघात करे, वह आस्था न होकर आतंकवाद है, उत्पीड़न है, हैवानियत है। साम्प्रदायिक ताक़तें आस्था के नाम पर लोगों को हैवानियत की ओर ढकेलने को उतावली हैं।
इस पुस्तिका का उद्‌देश्य है इतिहास के सही तथ्यों को समाज के समक्ष रखकर साम्प्रदायिक ताक़तों के कारनामों का पर्दाफ़ाश करना, जिससे देश में प्रेम, मुहब्बत, भाईचारा, समता, ममता, बन्धुता और एकता को बढ़ावा मिल सके।
 

Publishers: Pharos Media & Publishing (P) Ltd
D-84, Abul Fazl Enclave -I, Jamia Nagar, New Delhi - 110025
Tel.: (011) 26947483 / 26952825 Email: books@pharosmedia.com
 



Ram Janmabhoomi banaam Babri Masjid - Mithak ewam tathye

How to order

1. Buy online securely using:
- Credit Cards
- Debit Cards
- Net Banking - (All Major Indian Banks)
- Itz Cash cards
- PayMate - Mobile payments

India: Rs 55 (Registered Postage & payment processing charges included)  Click here to Order Online if shipping address is in India

Rest of the WorldUS $3 Approx.   US $5 (Registered Airmail charges included)   Click here to order Online if shipping address is outside India 
 

2. or buy offline by
- Sending us a Cheque, Demand Draft or Money Order.
- by dropping a cheque at any HDFC Bank ATM across India (email us for our account details) books@pharosmedia.com  

 

Availability: Usually ships the next business day.

Note: Airmail takes 15 to 21 days

 

We Accept

 

 

 

 

 


Pharos means lighthouse and Pharos of Alexandria was one of the seven wonders of the world

Copyright 2001-Present,  Pharos Media & Publishing Pvt Ltd. All Rights Reserved. Disclaimer